स्वच्छता, जल और सामुदायिक स्वास्थ्य (स्वच्छ)

स्वच्छ

स्वच्छता जल एवं सामुदायिक स्वास्थ्य परियोजना जो कि सीडा व यूनिसेफ के आर्थिक सहायोग से चलाई जा रही थी, एक अत्यन्त सफल परियोजना सिद्व हुई है। स्वच्छ की सफलता व अनुभवो को मद्दे नजर रखते हुए इसके स्वरूप को बनाए रखने के लिये एक जनवरी 1996 से एक स्वयं सेवी गैर सरकारी संस्था के रूप में पंजीकृत है। स्वच्छ संचालक मण्डल में राज्य सरकार के वरिश्ठ अधिकारी जिनमें महिला एवं बाल विकास विभाग, जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग एवं जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग, से मनोनित है तथा पॉच अन्य सदस्य जिसमें दो महिला सदस्य जनजाति क्षेत्र एवं एक सामाजिक कार्यकर्ता तथा दो स्वयं सेवी संस्था के प्रतिनिधि शामिल है।

मुख्य उद्देश्य
  • जनजाति उपयोजना क्षेत्र, माडा, बिखरी, सहरिया एवं राजस्थान के अन्य ग्रमीण क्षेत्रों में रहने वाले ग्रामवासियों, विशेष तौर से महिलाओं व बच्चों के जीवन स्तर व सामाजिक, आर्थिक स्थिति में सुधार लाना।
  • सुरक्षित पेयजल उपलब्ध कराना
  • मां बाडी केन्द्रों का संचालन जिनमें वर्तमान में अनुसूचित जनजाति/कथौडी एंव सहरिया परिवारों के ऐसे बालक/बालिका जो शिक्षा से वंचित है के लिये यह योजना संचालित की जा रही है।
  • स्वास्थ्यकर्मी योजना एवं क्षय नियंत्रण कार्यक्रम अनुसूचित जनजाति उपयोजना क्षेत्र में विभिन्न गांवो से अनुसूचित जनजाति के व्यक्तियों को विभिन्न प्रकार की स्वाथ्य संबंधी सुविधाओं की जानकारी उपलब्ध करायी जा रही है।
  • क्षेत्र में रहने वाले ग्रामवासियों की व्यक्तिगत स्वच्छता तथा स्वच्छता के स्तर को बेहतर बनाना तथा पर्यावरणीय स्वच्छता में सुधार लाना।
  • जल प्रबन्धन तथा स्वास्थ्य चेतना के क्षेत्र में समुदाय के दृष्टिकोण व आदतों में सकारात्मक परिवर्तन लाना।
  • सभी प्रकार की जल जनित बीमारियों सम्बन्धी श्रव्य, दृश्य व छपी हुई सामग्री की समीक्षा कर क्षेत्र की आवश्यकता के अनुसार उसका मुद्रण करवाना अथवा क्रय करना।
  • संबंधित संस्थाओं को संचार सामग्री सम्बन्धी उचित उपकरणों के पहचान व क्रय करने में सहायता करना।
  • ग्राम स्तरीय कार्यकर्ताओं को संचार सामग्री निर्माण अध्ययन/प्रशिक्षण के सम्बन्ध में विशेषज्ञ सलाह व तकनीकी जानकारी प्रदान करना।
  • ग्राम स्तरीय कार्यकर्ताओं हेतु कार्यशालाओं, सेमीनार व प्रशिक्षण आयोजित करने में समन्वय स्थापित करना।
  • जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग के माध्यम से छात्रावासों का संचालन
  • जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग द्वारा स्वीकृत विभिन्न निर्माण कार्य स्वच्छ परियोजना द्वारा किये जा रहे है।
  • सौर उर्जा के माध्यम से सामुदायिक जलोत्थान सिंचाई योजना स्थापना कार्य।
  • जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग के माध्यम से संचालित छात्रावासों को मरम्मत एवं रखरखाव कार्य।

प्रज्ञा केवलरमानी (आई.ए.एस)
आयुक्त, जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग पदेन अध्यक्ष, स्वच्छ परियोजना, उदयपुर

श्री वी.सी गर्ग (आर.ए.एस)
अतिरिक्त आयुक्त प्रथम, जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग पदेन निदेशक, स्वच्छ परियोजना, उदयपुर

श्री अनुराग भटनागर
परियोजना प्रबन्धक, स्वच्छ परियोजना, उदयपुर

स्वच्छ की वेबसाइट हेतु यहां क्लिक करें