क्षय रोग नियंत्रण

डाॅट्स प्रोवाईडर के रूप में क्षय नियंत्रण कार्यक्रम में सहयोगः
अनुसुचित क्षेत्र मे स्वच्छ द्वारा तपेदिक नियन्त्रण कार्यक्रम वर्ष 1996-97 से क्रियान्वित किया जा रहा है। संभावित क्षय रोगियों की जाचं स्वास्थ्य विभाग के चिकित्सक के द्वारा की जाती है तथा डाॅट्स पद्धति से उपलब्ध कराई गई दवा स्वच्छ परियोजना के ग्राम स्तरीय कार्यकर्ता (स्वास्थ्यकर्मी) द्वारा रोगी को अपनी उपस्थिति में दी जाती है। दवा के अतिरिक्त प्रत्येक क्षय रोगी को उपचार अवधि में पोष्टिक आहार के रूप में 3 कि.ग्रा. सत्तु प्रतिमाह दिया जाता है। 

स्वच्छ परियोजना द्वारा मार्च 2015 तक उदयपुर, सिरोही, डंूॅगरपुर, बांसवाड़ा, प्रतापगढ़ में कुल 4410 गावों में संचालित क्षय नियंत्रण कार्यक्रम में कुल 50370 रोगियों का उपचार पूर्ण किया गया तथा बांरा जिले में 6504 रोगियों का उपचार पूर्ण किया गया। इस प्रकार स्वच्छ परियेाजना द्वारा इस योजना अन्तर्गत मार्च 2015 तक कुल 56874 रोगियों का उपचार पूर्ण किया गया।