फ्लोरोसिस नियंत्रण परियोजना

उदयपुर जिले के सराड़ा एवं सलुम्बर पंचायत समिति में पूर्व के चयनित 50 गावों हेतु जनजाति विकास विभाग द्वारा स्वीकृत एवं स्वच्छ परियोजना द्वारा फ्लोरोसिस नियंत्रण योजना जागरूकता हेतु स्वीकृत की गयी है। सराडा एवं सलुम्बर प्रत्येक पंचायत समिति में 25-30 गावों का चयन कर गांव के विद्यालय षिक्षक, ए.एन.एम., सामाजिक कार्यकर्ता, जनप्रतिनिधि, स्वास्थ्य कार्यकर्ता इत्यादि को दो-दो दिवस का आवासीय जागरूकता प्रषिक्षण आयोजित कर प्रषिक्षण प्रदान किया गया है। इस योजना में मुख्यरूप से उक्त ग्रामवासियों को फ्लोराइड मुक्त पेयजल काम में लेने हेतु प्रेरित करने एवं फ्लोराइड मुक्त पेयजल की उपलब्ध एवं इस रोग से बचाव एवं उपचार के बारे मंे जानकारी उपलब्ध करायी गयी। 
उक्त प्रषिक्षण के दौरान चयनित प्रषिक्षणार्थियांे में से प्रत्येक गांव हेतु एक-एक पीने के पानी में फ्लोराइड की मात्रा जांच करने हेतु एक एक फिल्ड टेस्टिंग किट का वितरण भी किया गया। गांव में जागरूकता पैदा करने हेतु वाॅल पेन्टिग करवायी गयी है जिससे उस गांव में निवास कर रहे आम जन को इस रोग की जानकारी तथा बचाव एवं उपचार की जानकारी प्राप्त हो सके। 
योजना प्रावधाना अनुसार चयनित प्रत्येक गांव में उपयोग ले रहे जल स्त्रोत के पानी के नमूने एकत्रित कर नमूनों कि स्वच्छ निदेषालय में स्थापित जल गुणवत्ता जांच लेब में पानी के नमूनों की जांच कर सुरक्षित/असुरक्षित पेयजल स्त्रोतों को चिन्हित किया जा रहा है। प्रत्येक गांव में जागरूकता हेतु ग्राम सम्पर्क अभियान किया गया जिसके तहत नुक्कड़ नाटक एवं स्कूली छात्रों कि गावं में रैली निकाली गयी। रैली में बालक बालिकाओं द्वारा फ्लोराइड मुक्त पेयजल उपयोग हेतु विभिन्न नारों द्वारा गांव में प्रचार प्रसार किया गया।
 
उक्त योजना में मुख्यरूप से प्रभावित गावों की सूची निम्नानुसार चयन की गयीः
सलुम्बर पंचायत समिति - भोपालपुरा, डागीवाडा, डाल, बस्सी सिगांवत, छोटी विरवा, कराकला, नोली, डगार, सेरिया, अगाटिया, अमराडूंगरी, थरोडा, नयागांव, धारोद, इन्टालीखेडा, झडाप, घटेड, बामनिया, भबराना, अमलादा, खोलडी, बडीविरवा, लिम्बोदा, मातासुला, पायरा, थावडी मुख्य रूप से लिये गये। इसी प्रकार सराडा पंचायत समिति में चावड़, कातनवाडा, खेरूआ, लुहारिया, डायली, लालपुरिया, वजेपुर, मायर, सुरखण्डा खेड़ा, बण्डोली, अम्बारा, गतोडा, ष्यामपुरा, बाडाकला, केजड़, खड़, करणपुरिया, चंदोडा, उदयपुरिया खालसा, सगतडा, निमच, कसोटा, सेमारी, नालअलंकार, कुराडिया, ढाकरणा, सेपुर, पालसराडा, अदवास, निम्बोडा, बडगांव, सेरिया, महुवाडा मुख्यरूप से लिये गये।