जनजाति वर्ग के लिए प्रमुख योजनाऐं

जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग द्वारा जनजाति छात्राओं के लिये स्कूटी योजना राजस्थान/केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की 10वीं/12वीं परिक्षा में 65 प्रतिशत या अधिक अंक प्राप्त करने वाली छात्रा को स्कूटी प्रदान की जाती है।

जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग द्वारा राजस्थान/केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा में अध्ययनरत  जनजाति छात्राओं को वार्षिक आर्थिक सहायता 10 माह के लिए प्रतिमाह 350/- रूपये दी जाती है।

जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग द्वारा राजस्थान/केन्द्रीय/राजकीय महाविद्यालय/ निजी महाविद्यालय में अध्ययनरत जनजाति छात्राओ 10 माह के लिये प्रतिमाह  500/- रूपये आर्थिक सहायता दी जाती है।

माणिक्यलाल वर्मा आदिम जाति शोध एवं प्रशिक्षण संस्थान, उदयपुर द्वारा तकनीकी एवं चिकित्सा सेवाओं  में प्रवेश हेतु विभाग चयनित उदयपुर एवं कोटा स्थित प्रतिष्ठित कोचिंग संस्थानों के माध्यम से कोचिंग प्राप्त करने वाले जनजाति उपयोजना क्षेत्र के जनजाति छात्र-छात्राओं के लिये कोचिंग हेतु फीस पुनर्भरण की जाती है।

माणिक्यलाल वर्मा आदिम जाति शोध एवं प्रशिक्षण संस्थान, उदयपुर द्वारा राजस्थान लोक सेवा आयोग, राजस्थान अधीनस्थ सेवा आयोग एवं एस.एस.सी. द्वारा आयोजित विभिन्न प्रतियोगिता परीक्षाओं हेतु परीक्षा पूर्व निः शुल्क कोचिंग जनजाति उपयोजना क्षेत्र के अनुसूचित जनजाति के छात्र/छात्राओं को टी.आर.आई. परिसर में प्रदान की जाती है।

माणिक्यलाल वर्मा आदिम जाति शोध एवं प्रशिक्षण संस्थान, उदयपुर द्वारा जनजाति उपयोजना क्षेत्र के जनजाति समुदाय के अभ्यर्थियों को विद्या वाचस्पति उपाधि (च्ीण्क्) प्राप्त करने हेतु छात्रवृत्ति अधिकतम 3 वर्ष के लिये प्रदान की जाती है।

जनजाति विभाग द्वारा राज्य में 342 आश्रम छात्रावासों का संचालन किया जा रहा है,जिसमें अनुसूचित, माडा, बिखरी एवं सहरिया क्षेत्र के 21921 छात्र/छात्राऐं वर्तमान में आवासीय सुविधा से लाभान्वित हो रहे है।

जनजाति विभाग द्वारा राज्य में अनुसूचित, माडा, बिखरी एवं सहरिया क्षेत्र के छात्र/छात्राओं के शैक्षणिक उन्नयन हेतु 12 बालक, 10 बालिका एवं 5 सहशिक्षा के कुल 27 आवासीय विद्यालयों का संचालन किया जा रहा है, जिसमें वर्तमान में 5882 छात्र/छात्राऐं लाभान्वित हो रहे है।

जनजाति विभाग द्वारा महाविद्यालय स्तर पर नियमित अध्ययनरत छात्र/छात्राऐं जो राजकीय आवासीय सुविधा नहीं ले पा रहे है, उन्हे सम्भाग मुख्यालय पर 500/-, जिला मुख्यालय पर 400/- तथा अन्य स्थान पर 300/- रूपये प्रतिमाह की दर से 10 माह तक छात्रगृह किराया दिया जाता है।

जनजाति विभाग द्वारा राज्य में माध्यमिक शिक्षा बोर्ड अथवा विश्वविद्यालय स्तर पर प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण होने वाले जनजाति छात्रों को आगामी कक्षा में अध्ययन हेतु प्रतिभावान छात्रवृत्ति के रूप में 3500/- रूपये प्रोत्साहन राशि दी जाती है।

जनजाति विभाग द्वारा जनजाति की छात्राओं को उच्च शिक्षा प्रोत्साहन के उद्देश्य से 500/- रूपये प्रतिमाह की दर से 10 माह हेतु आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है।

जनजाति विभाग द्वारा जनजाति की छात्राओं को उच्च माध्यमिक स्तर तक की शिक्षा तक की शिक्षा हेतु प्रोत्साहित करने के उद्देश्य  से  350/- रूपये प्रति माह की दर से 10 माह हेतु आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है।